रविवार , सितम्बर 26 2021 | 09:27:11 AM
Home / बाजार / महामारी से पहले की रफ्तार पर लौट आया दवा बाजार

महामारी से पहले की रफ्तार पर लौट आया दवा बाजार

मुंबई.देश का 1.5 लाख करोड़ रुपये के देसी दवा बाजार की स्थिति काफी हद तक सामान्य हो गई है और बाजार दोबारा वृद्घि की राह पर लौट आया है। मगर इस बाजार के लोगों का कहना है कि मात्रा के लिहाज से वृद्घि अब भी चिंता का विषय है।

मूल्य के लिहाज से देसी दवा बाजार महामारी से पहले के जून, 2019 के सतर से बहुत आगे चला गया है। यह बाजार जून, 2019 में करीब 1.3 लाख करोड़ रुपये का था, जो लॉकडाउन और महामारी के बाद भी पिछले साल जून में बढ़कर 1.4 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया। इसके मुकाबले इस साल जून में बाजार 11.7 फीसदी बढ़ा, जिसमें कीमतों में 5.3 फीसदी वृद्धि और नए उत्पादों में 4.1 वृद्धि थी। लेकिन बिकी हुई दवाओं की मात्रा के मामले में वृद्घि केवल 2.3 फीसदी रही। देश की बड़ी दवा कंपनियों के शीर्ष संगठन इंडियन फार्मास्यूटिकल अलायंस (आईपीए) के महासचिव सुदर्शन जैन ने कहा, ‘दवा बाजार अन्य आर्थिक क्षेत्रों की तुलना में बेहतर स्थिति में है। लेकिन मात्रा के लिहाज से वृद्घि केवल तीन फीसदी के करीब है। तीसरी लहर की आशंका में उतारचढ़ाव और चिंता देखी जा रही है। मरीजों का डॉक्टरों से परामर्श केवल  को लेकर अस्थिरता और चिंता है। केवल 60-70 फीसदी

मरीज डॉक्टरों से सलाह ले रहे हैं। पुरानी बीमारियों के मरीजों का डॉक्टरों से परामर्श बढ़ा है क्योंकि उन बीमारियों का लंबा असर होता है।’ आईपीए के सदस्यों की देसी बाजार में 60 फीसदी और देश के दवा निर्यात में करीब 80 फीसदी हिस्सेदारी है।

2020 के अप्रैल-जून में कड़े देशव्यापी लॉकडाउन के कारण बिक्री में भारी गिरावट आई क्योंकि गंभीर रोगों के उपचार की एंटीबायोटिक्स जैसी दवाओं की बिक्री एकदम घट गई। पिछले साल मार्च में लोगों ने मधुमेह, उच्च रक्तचाप जैसी बीमारियों की ढेर सारी दवा खरीद लीं ताकि लंबे समय तक उन्हें खरीदना नहीं पड़े। उस महीने बिक्री में नौ फीसदी वृद्धि रही थी। लेकिन अप्रैल में बिक्री अप्रैल, 2019 के मुकाबले 11.2 फीसदी घट गई। हालांकि कुल बिक्री में गिरावट के बावजूद दिल की बीमारी और मधुमेह की दवाएं खासी बिकीं और उनमें साल भर पहले के मुकाबले 5.9 फीसदी और 6.4 फीसदी वृद्धि दर्ज की गई। मगर मार्च से मई के बीच भारतीय दवा बाजार की वृद्धि महज 3.6 फीसदी रही।

प्रभुदास लीलाधर में विश्लेषक सुरजीत पाल ने कहा कि महामारी की दूसरी लहर और पिछले साल कम बिक्री के कारण अप्रैल और मई में बिक्री में तगड़ी वृद्धि देखी गई, जिसके बाद जून में देसी दवा बाजार की वृद्घि सामान्य हो गई। हाल ही में एक रिपोर्ट में पाल ने वृद्धि सामान्य होने की कई वजह बताई हैं, जिनमें मई में चरम पर पहुंचने के बाद कोविड-19 के मामलों में गिरावट, जून 2020 में भारतीय दवा बाजार की आपूर्ति शृंखला का काफी हद तक दुरुस्त रहना और संक्रमण-रोधी या गंभीर रोगों के उपचार के उत्पादों की साल भर पहले के मुकाबले तेज मांग रहना शामिल हैं।

Check Also

बजट अनुमान के आधे से अधिक कर संग्रह

लखनऊ. केंद्र सरकार का प्रत्यक्ष कर संग्रह (रिफंड के बाद) वित्त वर्ष 2022 के बजट …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *