शनिवार , अप्रेल 20 2024 | 04:43:55 PM
Breaking News
Home / राजकाज / खुदरा महंगाई 6 फीसदी से नीचे, IIP भी बढ़ा
Retail inflation below 6 percent, IIP also increased

खुदरा महंगाई 6 फीसदी से नीचे, IIP भी बढ़ा

नई दिल्ली। भारत की खुदरा महंगाई दर (india retail inflation) मार्च में गिरकर 15 महीने के निचले स्तर पर पहुंच गई है। वस्तुओं की श्रेणी में कीमत का दबाव कम होने और ज्यादा आधार की वजह से सरकार को बहुप्रतीक्षित राहत मिली है। भारत का फैक्टरी उत्पादन भी कम आधार के कारण तेजी से बढ़कर फरवरी में 3 महीने के उच्च स्तर पर पहुंच गया है। राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय की ओर से जारी आंकड़ों से पता चलता है कि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) पर आधारित महंगाई दर 5.66 प्रतिशत रही है जो फरवरी में 6.44 प्रतिशत थी।

तय 6 प्रतिशत ऊपरी सीमा के नीचे महंगाई दर

खाद्य, ईंधन, आवास और सेवा की कीमतों में लगातार गिरावट के कारण 2023 में पहली बार प्रमुख महंगाई दर गिरकर भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा तय 6 प्रतिशत ऊपरी सीमा के नीचे आई है।वहीं औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (IIP) के आधार पर मापा जाने वाला फैक्टरी उत्पादन फरवरी में बढ़कर 5.6 प्रतिशत पर पहुंच गया है, जो जनवरी में 5.5 प्रतिशत बढ़ा था। मुख्य रूप से अनुकूल आधार के असर और खनन (4.6 प्रतिशत), विनिर्माण (5.3 प्रतिशत) और बिजली (8.2 प्रतिशत) क्षेत्रों में वृद्धि के कारण औद्योगिक उत्पादन बढ़ा है।

खाद्य महंगाई दर मार्च में गिरकर 4.79 प्रतिशत

खाद्य महंगाई दर मार्च में गिरकर 4.79 प्रतिशत रह गई है, जो फरवरी में 5.95 प्रतिशत थी। खासकर मोटे अनाज की महंगाई दर में गिरावट (15.27 प्रतिशत) आई है। मांस व मछली की कीमतें घटी (-1.42 प्रतिशत)हैं। साथ ही दूध (9.31 प्रतिशत) और तेल (-7.86 प्रतिशत) कीमतें भी पहले की तुलना में कम हुई हैं। बहरहाल मार्च में अंडे (4.41 प्रतिशत), दलहन (4.33 प्रतिशत), फलों (7.55 प्रतिशत) और सब्जियों की कीमत बढ़ी है।

Check Also

The expansion of new airports will increase the scope of regional flight

राजस्थान में नागरिक उड्डयन सेवाओं के विस्तार और सुदृढ़ीकरण पर हुई विस्तृत चर्चा

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय के सचिव के साथ राजस्थान सरकार के शीर्ष अधिकारियों की मुलाकात …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *