बुधवार , अगस्त 04 2021 | 11:21:35 AM
Home / कृषि-जिंस / सोयाबीन की नई किस्म ‘एमएसीएस 1407’ से मिलेगा 17% अधिक उत्पादन
17% more production from new soybean variety 'MACS 1407'

सोयाबीन की नई किस्म ‘एमएसीएस 1407’ से मिलेगा 17% अधिक उत्पादन

जयपुर। भारतीय वैज्ञानिकों ने सोयाबीन की एक अधिक उपज देने वाली और कीट प्रतिरोधी किस्म विकसित की है. एमएसीएस 1407 नाम की यह नई विकसित किस्म असम, पश्चिम बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़ और पूर्वोत्तर राज्यों में खेती के लिए उपयुक्त है और इसके बीज वर्ष 2022 के खरीफ के मौसम के दौरान किसानों को बुवाई के लिए उपलब्ध कराये जायेंगे. वर्ष 2019 में, भारत ने व्यापक रूप से तिलहन के साथ-साथ पशु आहार के लिए प्रोटीन के सस्ते स्रोत और कई पैकेज्ड भोजन के तौर पर सोयाबीन की खेती करते हुए इसका लगभग 90 मिलियन टन उत्पादन किया और वह दुनिया के प्रमुख सोयाबीन उत्पादकों में शुमार होने का प्रयास कर रहा है.

प्रति हेक्टेयर में 39 क्विंटल का पैदावार

सोयाबीन की अधिक उपज देने वाली और रोग प्रतिरोधी ये किस्में भारत के इस लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद कर सकती हैं. इस चुनौती को स्वीकार करते हुए, भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के एक  स्वायत्त संस्थान एमएसीएस – अग्रहार रिसर्च इंस्टीट्यूट (एआरआई), पुणे के वैज्ञानिकों ने भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर), नई दिल्ली के सहयोग से सोयाबीन की अधिक उपज देने वाली किस्मों और सोयाबीन की खेती के उन्नत तरीकों को विकसित किया है. उन्होंने पारंपरिक क्रॉस ब्रीडिंग तकनीक का उपयोग करके एमएसीएस 1407 को विकसित किया, जोकि प्रति हेक्टेयर में 39 क्विंटल का पैदावार देते हुए इसे एक अधिक उपज देने वाली किस्म बनाता है.

खरगोश पालन का शुरू करें बिजनेस, हर साल कमाएं लाखों रुपए

Check Also

Food processing promotion

खाद्य प्रसंस्करण को प्रोत्साहन

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र (Food processing sector) के लिए बहुप्रतीक्षित उत्पादन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *