शनिवार , अप्रेल 20 2024 | 04:39:57 PM
Breaking News
Home / कंपनी-प्रॉपर्टी / ‘इंटीरियर्स एंड मोर लिमिटेड’ का आईपीओ 15 को खुलेगा

‘इंटीरियर्स एंड मोर लिमिटेड’ का आईपीओ 15 को खुलेगा

घरों, कारोबारी स्थानों व कार्यक्रमों को सजाने के लिए आर्टिफिशियल फ्लावर्स, प्लांट्स और डेकोरेटिव उत्पाद बनाने वाली कंपनी ‘इंटीरियर्स एंड मोर लिमिटेड’ (पूर्व नाम इंटीरियर्स एंड मोर प्राइवेट लिमिटेड) का आईपीओ 42 करोड़ रुपए जुटाने हेतु 15 फरवरी, 2024 से खुल रहा है। आईपीओ से जुटाई गई राशि का उपयोग कुछ ऋणों का पुनर्भुगतान/पूर्व भुगतान, कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं की पूर्ति और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों की पूर्ति हेतु किया जाएगा। आईपीओ के बाद, कंपनी के शेयरों को नेशनल स्टॉक एक्सचेंज लिमिटेड के एसएमई प्लेटफॉर्म ‘एनएसई इमर्ज’ पर सूचीबद्ध किया जाएगा। ग्रेटेक्स कॉरपोरेट सर्विसेज इस इश्यू की लीड मैनेजर हैं। आईपीओ 20 फरवरी, 2024 को बंद हो जाएगा। आईपीओ में 10 रुपये फेसवैल्यू के 18,50,400 फ्रेश इक्विटी शेयर बुक बिल्ट इश्यू प्रणाली से 216 रुपए से 227 रुपए प्रति शेयर के भाव पर जारी कर 42.00 करोड़ रुपए जुटाए जा रहे हैं। आवेदन के लिए न्यूनतम लॉट साइज 600 शेयर है जो आईपीओ की ऊपरी मूल्य सीमा 227 रुपए प्रति शेयर के आधार पर 1,36,200 रुपये के बराबर है। आईपीओ 35% शेयर रिटेल निवेशकों के लिए आरक्षित किए गए हैं। मार्केट मेकर के लिए 5% शेयर आरक्षित किए गए हैं। 2012 में निगमित, इंटीरियर्स एंड मोर लिमिटेड की स्थापना श्री मनीष टिबरेवाल और श्री राहुल झुनझुनवाला ने की थी। कंपनी के पास आर्टिफिशियल फ्लॉवर्स, गिफ्ट आइटम्स, घर, कार्यालयों और मॉल, बैंक्वेट हॉल आदि जैसे अन्य प्रतिष्ठानों के लिए सजावट कार्य करने के क्षेत्र में समृद्ध अनुभव है। पिछले 12 वर्षों की अवधि में, कंपनी ने न सिर्फ घरेलू बाजार में आर्टिफिशियल फ्लॉवर्स और उनके द्वारा निर्मित अन्य सजावटी वस्तुओं की बिक्री में वृद्धि की है, बल्कि चीन, वियतनाम, थाईलैंड, फिलीपींस और इंडोनेशिया से।  अन्य घरेलू और शादी की सजावट के उत्पादों के आयात को शामिल करके अपने पोर्टफोलियो का विस्तार भी किया है। इन वर्षों में कंपनी कॉर्पोरेट, बीटूबी और बीटूसी सेगमेंट में एक मजबूत ग्राहक बनाने में सक्षम रही है। कंपनी ने वित्तीय स्तर पर विकास और स्थिरता को प्रदर्शित करते हुए उल्लेखनीय प्रगति प्रदर्शित की है। वित्त वर्ष 2022-2023 के लिए कंपनी ने 25.27 करोड़ रुपये का राजस्व और 5.92 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ जबकि वित्त वर्ष 2021-22 के लिए कंपनी ने 9.98 करोड़ रुपये का कुल राजस्व एवं 1.04 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ अर्जित किया था।
31 मार्च 2023 तक कंपनी की कुल असेट 9.95 करोड़ रुपए और कुल असेट्स 30.94 करोड़ रुपए दर्ज की गई थी। 31 दिसंबर, 2023 को समाप्त अवधि के लिए कंपनी ने क्रमशः 18.53 करोड़ रुपए का राजस्व और 3.54 करोड़ रुपये शुद्ध लाभ अर्जित किया है।

Check Also

वेस्टर्न डिजिटल ने सीसीटीवी स्टोरेज के फीचर्स के बारे में बताया

जयपुर, 27 फरवरी 2024 : सीसीटीवी एप्लीकेशंस के विकसित होते परिवेश में सिक्योरिटी के लिए पारंपरिक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *